Connect with us

World News

महान वैज्ञानिक प्रोफेसर स्टीफन हॉकिंग का निधन

World News 14-03-2018 3795

महान वैज्ञानिक प्रोफेसर स्टीफन हॉकिंग का निधन

महान वैज्ञानिक प्रोफेसर स्टीफन हॉकिंग का आज निधन हो गया है l वे 76 साल के थे l ब्रिटेन के रहने वाले हॉकिंग 1974 में ब्लैक हॉल्स पर असाधारण रिसर्च करके साइंस की दुनिया के बड़े नामों में से एक बन गए थे l भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी उनके निधन पर शोक जाहिर किया है l

हॉकिंग मोटर न्यूरॉन जैसी बीमारी से ग्रसित थे और चल-फिर नहीं सकते थे l स्टीफन ने एक बार बच्चों को कहा था कि हमेशा सितारों की ओर देखो न कि अपने पैरों की ओर और कभी भी काम करना मत  छोड़ो l इंसान को हमेशा काम करते रहना चाहिए l

उन्होंने ने अपनी सफलता का राज़ अपनी बीमारी को बताया था l उन्होंने कहा था कि पहले वो अपनी पढ़ाई पर ज्यादा ध्यान नहीं देते थे लेकिन जबसे बीमारी हुई उन्हें लगने लगा कि वे ज्यादा समय तक जीवित नहीं रहेंगे इसलिए उन्होंने अपना सारा ध्याना रिसर्च पर लगा दिया l हॉकिन्स की सबसे चर्चित रिसर्च ब्लैक हॉल्स की थी l

हॉकिंग ये मानते थे कि ईश्वर ने ब्रह्मांड की रचना नहीं की है l उन्होंने अपनी किताब "दी ग्रैंड डिजाइन "में लिखा था कि ब्रह्मांड की रचना अपने आप हुई l जबकि आइजैक न्यूटन मानते थे कि इस सृष्टि का अवश्य ही कोई रचियता होगा, वरना इतनी जटिल रचना पैदा अपने आप नहीं हो सकती l

हॉकिंग का मानना था कि ब्रह्मांड में गुरुत्वाकर्षण जैसी शक्ति की वजह से नई रचनाएं हो स्वतः हो सकती हैं l इसके लिए इसकी रचना के लिए ईश्वर जैसी किसी शक्ति की सहायता की आवश्यकता नहीं है l

"ए ब्रीफ हिस्ट्री ऑफ टाइम" किताब से वे दुनियाभर में लोकप्रिय हो गए l हॉकिंग की महत्वपूर्ण किताबों में ए ब्रीफ हिस्ट्री ऑफ टाइम, द ग्रैंड डिजाइन, यूनिवर्स इन नटशेल, द थ्योरी ऑफ एवरीथिंग शामिल है l ब्लैक होल और बिग बैंग जैसी खगोलीय घटनाओं पर उनके शोध ने दुनिया को इसे समझने में मदद की है l

उन्होंने एक बार कहा भी था कि "पिछले 49 सालों से मैं मरने का अनुमान लगा रहा हूं l मैं मौत से डरता नहीं और न ही मुझे मरने की कोई जल्दी है l मरने से पहले मुझे बहुत सारे काम करने हैं l काम आपको जीने का मकसद देती है l बिना काम के जिंदगी खाली सी लगती है l"

Please Note : The opinions/views expressed in the above article/content are the personal views/opinions of the author and do not represent the views of Nimbuzz or the Publisher MGTL.
Continue Reading